• slider
    प्राचीन शिव मंदिर सह शिवलिंग
    खेकपरता,
    जिला लोहरदगा
    रांची से 90 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में जिला मुख्यालय लोहरदगा से 12 किलोमीटर की दूरी में अवस्थित है स्थानीय पाषाण खण्डों से बना यह शिव मंदिर खेकपरता गांव(अक्षांस 230 27’ 10’’ उत्तर, देशांतर 840 44’ 50’’ पूर्व ) के पहाड़ी के शिखर पर स्थित है ।
  • slider
    राजमहल एवं मंदिर परिसर
    नवरतनगढ़
    नवरतनगढ़, सिसई तहसील मुख्यालय से 15 किलोमीटर तथा जिला मुख्यालय गुमला से 45 किलोमीटर की दुरी पर अवस्थित है । यह राज्य की राजधानी से लगभग 75 किलोमीटर पश्चिम में है |
  • slider
    संभावित भूगर्त कक्ष एवं सुरंग
    सह बारादरी के ध्वंशावशेष
    हदफ स्थित बारादरी (अक्षांस 250 4’ 31” उत्तर, देशांतर 870 46’ 47” पूर्व) झारखण्ड की राजधानी से 480 किलोमीटर तथा जिला मुख्यालय साहेबगंज से 32 किलोमीटर की दुरी पर अवस्थित है । बारादरी को नागेश्वर बाग के नाम से भी जाना जाता है ।
  • slider
    मंदिर समूह हाराडीह
    झारखण्ड राज्य के रांची जिले के बुंडु प्रखंड में हाराडीह का मंदिर समूह स्थित है । यह गांव, राजधानी रांची से 60 किलोमीटर की दुरी तथा तमाड से 15 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है । प्राचीन मंदिर के अवशेष हाराडीह गांव के उत्तर में और खेतों के मध्य बनी एक ऊंचे टीले पर विद्यमान है जिससे लगकर कांची नदी बहती है ।
  • slider
    प्राचीन सरोवर एवं मंदिर समुह
    बेनीसागर
    बेनीसागर या बेनुसागर (अंक्षास 210 59’ 02’’ उत्तर देशांतर 850 53’ 39” पूर्व ) झारखंड राज्य के पश्चिम सिहंभूम जिले के मझगांव प्रखंड में स्थित है और उडीसा राज्य के मयुरगंज जिले की सीमा पर अवस्थित है ।
  • slider
    जामा मस्जिद
    हदफ
    हदफ स्थित जामा मस्जिद (अक्षांस 250 4’ 29” उत्तर, देशांतर 870 46’ 46” पूर्व ) झारखण्ड की राजधानी रांची से 480 किलोमीटर तथा जिला मुख्यालय साहेबगंज से 32 किलोमीटर की दूरी पर अवस्थित है ।

HISTORYभारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण

History

हमारा दृष्टिकोण


संस्कृति मंत्रालय के अंतर्गत भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण देश के पुरातात्विक शोध एवं सांस्कृतिक विरासत की रक्षा को समर्पित एक अग्रणी संगठन है । राष्ट्रीय महत्व के प्राचीन स्मारकों व पुरातात्विक स्थलों एवं ध्वंशावशेषों का रखरखाव व देखभाल इस संगठन का मुख्य कार्य है । इसके अतिरिक्त यह प्राचीन संस्मारक एवं पुरातात्विक स्थल व ध्वंसावशेष अधिनियम 1958 के अनुसार देश में हो रही सभी तरह के पुरातात्विक गतिविधियों को संचालित एवं नियंत्रित करता है साथ ही यह संगठन पुरावशेष एवं बहुमूल्य कलाकृति अधिनियम 1972 के प्रावधान को भी विनियमित करता है । प्राचीन संस्मारक एवं पुरातत्विक स्थल व ध्वंसावशेष के नियमित देखभाल एवं रखरखाव हेतु संपूर्ण देश को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने 29 मंडल / अंचलों/वलयों में विभाजित किया है ।
रांची मंडल उनमें से एक है जो संपूर्ण झारखंड में स्थित राष्ट्रीय संरक्षित स्मारकों /स्थलों का रखखाव करता है साथ ही संपूर्ण झारखंड में पुरातात्विक अन्वेषण शोध को संचालित करता है । इस मंडल का गठन अप्रैल 2003 में किया गया था । वर्त्तमान समय में रांची मंडल के अंतर्गत कुल 13 राष्ट्रीय संरक्षित स्मारक /पुरास्थल है जिनकी देखभाल एवं रखखाव प्राचीन संस्मारक एवं पुरातत्वीय स्थल व ध्वंसावशेष अधिनियम 1958 एंव नियम 1959 के प्रावधानों के अनुसार किया जा रहा है ।